परिवारविज्ञान: परिवार के विषय में समय, नाम और स्थान का होता है बहुत महत्त्व !

Category: परिवार विज्ञान (Family Science) Published: Wednesday, 06 March 2019 Written by Dr. Shesh Narayan Vajpayee

     किसी परिवार के सदस्यों का जब जैसा जैसा समय चल रहा होता है !उनके जो जो नाम होते हैं तथा वो परिवार जिस स्थान अर्थात घर में रह रहा होता है !उस परिवार के सदस्यों के आपसी संबंधों एवं सुख शांति पर इन तीनों बातों का बहुत बड़ा असर पड़ रहा होता है !
     परिवार में आपसी सदस्यों में प्रेम हो यह आवश्यक है इसके लिए आवश्यक है कि घर का प्रत्येक सदस्य  एक दूसरे के प्रति कपट न करे अच्छे विचार रखे खुद प्रसन्न रहे और दूसरों को प्रसन्न रखने का प्रयास करे !परिवार के सदस्यों के बीच आपस में जब प्रेम होगा एक दूसरे के प्रति विश्वास होगा तभी सुख शांति का वातावरण बन पाएगा !इसके लिए आवश्यक है कि प्रत्येक व्यक्ति का स्वभाव एक दूसरे को पसंद आने लायक हो !
      किसी का किसी के साथ अच्छा या बुरा संबंध उसके स्वभाव के अनुसार होता है प्रत्येक व्यक्ति का स्वभाव तीन बातों के अनुसार बनता या बिगड़ता रहता है पहली बात किसी के ऊपर जब जैसा समय चल रहा होता है तब तैसा स्वभाव बनता बिगड़ता रहता है !दूसरी बात जिस नाम का व्यक्ति जिस नाम के व्यक्ति से मिलता या बात व्यवहार करता है उसी के अनुसार उसका स्वभाव बनता या बिगड़ता रहता है!तीसरी बात जो व्यक्ति जिस स्थान पर रहता या काम करता है उस स्थान पर रहने या काम करने वाले लोगों के स्वभाव पर उस स्थान के अच्छे बुरे होने का भी असर पड़ता है !इसलिए प्रत्येक व्यक्ति के संबंधों पर उसके समय का उसके नाम का और उस स्थान का बहुत बड़ा असर होता है !इन तीनों बातों के सामान्य हुए बिना किसी परिवार में सुख शांति की परिकल्पना नहीं की जा सकती है !

  सुखी परिवार के लिए समय का महत्त्व -

      प्रत्येक व्यक्ति का स्वभाव उसके समय के अनुशार बदलता रहता है जिसका जब जैसा समय होता है तब वैसा स्वभाव बनता है !स्वभाव सँभलता है तो घर में सुख शांति होती है और स्वभाव बिगड़ता है तो घर में अशांति अर्थात तनाव होता है !
     किसी भी परिवार में जब जितने समय तक जितने प्रतिशत सदस्यों का समय अच्छा चल रहा होता है उस परिवार में उतने समय तक उतने प्रतिशत वातावरण शांति का रहता है !इसी प्रकार से जितने प्रतिशत लोगों का समय खराब चल रहा होता है उस परिवार का उतने प्रतिशत वातावरण कलह युक्त और तनाव पूर्ण रहता है !
     परिवार में जब जिन लोगों का समय अच्छा चल रहा होता है उतने समय तक उन लोगों की दिनोंदिन तरक्की होती चली जाती है उनके सभी प्रकार के प्रयास सफल होते चले जाते हैं इसलिए ऐसे लोग उतने समय तक अत्यंत प्रसन्न रह लेते हैं इसीलिए ये दूसरों को भी परेशान नहीं करना चाहते हैं इनके पास अपने विषय में अच्छा सोचने और करने के अलावा इतना समय ही नहीं होता है कि ये किसी दूसरे के विषय में बुरा सोचें और बुरा करें !इसलिए ये खुद भी अच्छे रहते हैं और चाहते हैं कि उनका परिवार भी प्रसन्न रहे!
      इसलिए जिस परिवार में जिस समय में जितने अधिक सदस्यों का शुभ समय चल रहा होता है उस परिवार में उतने समय तक सुख शांति बनी रहती है!यदि अशुभ समय वाले सदस्यों की संख्या अधिक होती है तो उस परिवार में सब कुछ उल्टा होता चला आता है ऐसे समय में कलह से बचने के लिए कुछ सावधानियाँ बरतनी पड़ती हैं !उससे कुछ सुधार हो जाता है !
       इसलिए किसी घर में कभी कलह न हो आपस में एक दूसरे के प्रति प्रेम प्यार बना रहे उन्हें अपने परिवार के सभी सदस्यों के आने वाले समय का हमेंशा पूर्वानुमान लगाते रहना चाहिए!इसके अलावा जिस घर में जब कलह बढ़ने लगे तो समझदारी इसी में है कि किसी से बिना कुछ कहे या लड़े भिड़े अपने परिवार के सभी सदस्यों का हमारे यहाँ से समय चेक करवावे उसके अनुसार अपने घर में शांति स्थापित करने का प्रयास करे !
    नोट- ऐसी परिस्थितियाँ पैदा होने पर पंडों पुजारियों तांत्रिकों मुल्ला मौलवियों से पूछने जाने या उनके मनगढंत उपायों जादूटोनों आदि अंधविश्वासों पाखंडों से उस परिवार में तनाव और अधिक बढ़ जाता है !इसलिए परिवार में किसी प्रकार की अशांति होने पर हमारे यहाँ से अपने एवं अपने परिवार के सदस्यों के विषय में उचित पूर्वानुमान प्राप्त करें !

  सुखी परिवार के लिए नाम का महत्त्व -

       किसी परिवार के कुछ सदस्यों का परिवार के अन्य सदस्यों के साथ उनके नाम के पहले अक्षर का तालमेल ठीक न होने से उस परिवार में कलह होने या बढ़ने लगता है क्योंकि किसी भी व्यक्ति के नाम के पहले अक्षर के अनुसार उस व्यक्ति का स्वभाव बनता है!चूँकि सभी अक्षर आपस में एक दूसरे के मित्र नहीं होते कुछ अक्षर एक दूसरे के मित्र होते हैं तो कुछ सम  और कुछ शत्रु होते हैं !कुछ अक्षर ऐसे भी होते हैं जो जिस अक्षर के प्रति मित्रता का भाव रखते हैं जबकि वो अक्षर उस अक्षर के प्रति मित्रता की भावना नहीं रखता है अपितु उस अक्षर को सम या शत्रु मानता है !
       ऐसी परिस्थिति में जिस घर में सदस्यों के नाम आपस में एक दूसरे के प्रति मित्र भावना वाले अधिक होते हैं !उस घर में लोग एक दूसरे के प्रति समर्पित होते हैं वहाँ कलह कम होता है बिपरीत परिस्थितियों में या गरीबत के दिनों में भी ऐसे घरों के सदस्य आपस में प्रेम पूर्वक रह लिया करते हैं !यदि परिवार के सदस्यों के नाम अक्षर एक दूसरे के मित्र न होकर अपितु शत्रु हुए तो ऐसे लोग एक दूसरे के प्रति हमेंशा बुरा सोचते बुरा करते एवं बुरा बोलते रहते हैं !
     किसी घर में कभी कलह न हो घर के सदस्यों में आपस में एक दूसरे के प्रति प्रेम प्यार बना रहे इसलिए उन्हें अपने परिवार के सभी सदस्यों के आने वाले समय का पूर्वानुमान हमेंशा लगाते रहना चाहिए !इसके अलावा जिस घर में जब कलह बढ़ने लगे तो समझदारी इसी में है कि किसी से बिना कुछ कहे या लड़े भिड़े अपने परिवार के सभी सदस्यों का नाम हमारे यहाँ से अवश्य चेक करवावें !उसी के अनुसार अपने घर में शांति स्थापित करने का प्रयास करे !  

  परिवारों में स्थान का महत्त्व -

      किसी के रहने या काम करने का स्थान जितना अच्छा होता है उतना ही अधिक वहाँ रहने या काम वाले लोगों का मन लगता है उन्हें प्रसन्नता मिलती हैं ऐसे स्थानों पर रहने या काम करने वाले सदस्य लोग उतनी ही प्रसन्नता पूर्वक एक दूसरे के साथ बात  व्यवहार कर पाते हैं !अच्छे स्थानों पर नाते रिस्तेदार व्यवहारी मित्र मंडली के लोग भी अधिक आना ठहरना पसंद करते हैं !अच्छे स्थानों पर व्यापार करने से वहाँ कस्टमर अधिक आना पसंद करते हैं कर्मचारियों का भी मन लगता है !
   विशेष बात - कोई व्यक्ति जब हर किसी से गुस्सा में बात व्यवहार करे इसका मतलब उसका समय खराब चल रहा है ! वही व्यक्ति यदि कुछ लोगों से गुस्सा होकर बात व्यवहार करे और कुछ लोगों से प्रसन्न होकर इसका मतलब जिनके साथ गुस्सा होकर बात व्यवहार कर रहा है उनके साथ नाम का तालमेल ठीक ढंग से बैठ नहीं  पा रहा  है और जिसके साथ बात व्यवहार ठीक ढंग से कर रहा है! इसका मतलब उसके साथ नाम का तालमेल ठीक बैठ जा रहा है !इसी प्रकार से कुछ लोग किसी मकान , दुकान या स्थान पर जब पहुँचते हैं तब उन्हें गुस्सा आने लगता है वे लड़ने या कलह करने लगते हैं जबकि वैसे उनका स्वभाव शांत, सामान्य एवं प्रसन्न बना रहता है !इसका मतलब कि वो स्थान ही ख़राब है !यदि ऐसा न होता तो उस स्थान पर पहुँच कर ही ऐसा नहीं हो रहा होता !
     इसलिए परिवारों में सुख शांति के लिए समय नाम और स्थान का बहुत बड़ा महत्त्व होता है !जिसके विषय में पूर्वानुमान लगाने या सच्चाई समझने के लिए हमारे यहाँ संपर्क किया जा सकता है !

Hits: 334